कैसे करे प्रसव की तैयारी – कम करे बच्‍चे के जन्‍म की जटिलताओं को

कैसे करे प्रसव की तैयारी – कम करे बच्‍चे के जन्‍म की जटिलताओं को

एक महिला को जितनी माँ बनने की ख़ुशी होती है. उतना ही प्रसव का डर लगता है. इसलिए आज कल कई महिलाये सर्जिकल डिलवरी का विकल्प अपनाती है. सर्जिकल डिलवरी बच्चे को जन्म देने में तो आसान लगती है. किन्तु डिलवरी के बाद इसमें बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इस ऑपरेशन का माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है. किन्तु आप कुछ बातो का ध्यान रखेगी तो आप बच्‍चे के जन्‍म के समय होने वाली जटिलताओं को कम कर सकती है ( know labor pain reduction tips in hindi ) . इसीलिए आज हम आपको hindibeautytips.com पर कुछ ऐसी टिप्स के बारे में बताने जा रहे है , जिन्हें फॉलो कर के आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती है.

--- विज्ञापन ---

Know The Labor Pain Reduction Tips in Hindi:-

 

1. अगर आपका पहला बच्चा है. तो सब से पहले प्रसव की अधिक से अधिक जानकारी लेने की कोशिश करे. इसके लिए अपने घर में बड़ो से उनके अनुभवो के बारे में बात कर सकते है, और आप ऑनलाइन विडियो और आर्टिकल lदेख सकते है. इसके साथ साथ डॉक्टर और एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकते है. जिससे आप खुद को मानसिक व् शारीरिक दोनों तरीके से प्रसव के लिए तैयार कर सके.

2. प्रसव से पहले डॉक्टर की सलाह से आप कुछ किगल एक्सरसाइज  भी शुरू कर दे. किगल एक्सरसाइज करने से आप को प्रसव का दर्द कम महशुस होगा. इस से पेल्‍विक मसल्‍स फ्लेक्सिबल हो जाएँगी. जिस से प्रसव में आसानी होगी.


3. अक्सर गर्भवती महिलाओ को मसल्‍स में दर्द रहता है. लेकिन ऐसे समय में आप पैन किलर का इस्तेमाल भी नहीं कर सकते. इसिलए आप नियमित रूप से मालिश करवा सकती है. जिससे आपकी मसल्‍स प्रसव के लिए पहले से तैयार हो जाएगी, और आपको दर्द में भी राहत मिलेगी.


4. आखिरी महीने गर्भवती महिलाओ को भोजन पचाने में कठिनाई होती है. लेकिन आखिरी महीने में अछि डाइट भी अधिक आवश्यकता होती है. इसीलिए डॉक्टर की सलाह से अपनी डाइट में  परिवर्तन करे. जिससे आपके शरीर में खून की कमी न हो व् आप प्रसव के लिए मजबूत बनी रहे.

5. प्रसव की पीड़ा को कम करने के लिए आप पहले से ही लंबी – लंबी साँसे लेने की प्रैक्टिस करे . इसके साथ- साथ किसी एक्सपर्ट की सलाह से कुछ प्राणायाम भी शुरू कर दे. जिस से आप को लेबर पैन और घवराहट कम महसूस होगी.

6. अगर हो सके तो आप पहले से ही जिस हॉस्पिटल में प्रसव करना चाहती है उस हॉस्पिटल के लेबर रूम और प्रसव के ऑप्शनस की भी की जानकारी  ले ले. और इस बारे में डॉक्टर और डिलवरी करने वाले हॉस्पिटल के स्टाफ से भी बात करे.

सही मायने मैं अगर कहा जाये की आपके शरीर का ख्याल आप से ज्यादा कोई नहीं रख सकता तो ये बात गलत नहीं होगी. इसलिए जो उपाय अभी अपने पढ़ें हैं उन् पर अमल करना भी आप ही की जिम्मेदारी है. आप प्रेगनेंसी टिप्स के बहुत से हिंदी लेख हमारी साइट पर पढ़ सकती हैं.
अगर आपके कोई सुझाव या प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स मैं लिखें. हम आपके प्रश्नों का उत्तर ज़रूर देंगे.

Post Comment