चीनी जमाखोरों पर रोक – चीनी की कीमतें 40 के पार

चीनी जमाखोरों पर रोक – चीनी की कीमतें 40 के पार

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को चीनी की बढती कीमतें व् जमाखोरी रोकने के लिए चीनी व्यापारियों के लिए एक भंडार सीमा तय करने को कहा है। जैसा की हम सभी जानते है की चीनी का खुदरा भाव 40 रूपये किलो तक पहुंच चूका है|

 

lpइसी बात पर विचार करते हुए चीनी व्यापारियों के लिए भंडार रखने की सीमा तय की जा रही है। और ये अधिनियम आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत लागू किया जाएगा|
खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है की बाजार में चीनी की जमाखोरी रोकने के लिए ही राज्य सरकारों को भंडार सीमा लगाने को कहा गया है।
अक्टूबर २०१५ से खुदरा बाजारों में चीनी की कीमत से बढ़ती ही जा है। इसका अनुमानित कारण बाजार वर्ष अक्टूबर से सितंबर, 2015-16  में उत्पादन कम होकर 2.56 करोड टन रहने का लगाया जा रहा है, जबकि पिछले वर्ष यह 2.83 करोड टन था।

--- विज्ञापन ---

 

olअप्रैल, 2016 की शुरूआत में चीनी की कीमत 40 रूपये किलो के ऊपर पहुंच गई जबकि पिछले साल अक्टूबर में यह 30 रूपये किलो थी। सरकारी आंकडों की माने तो अभी चीनी की कीमत 44 रूपये किलो है।
इसका अनुमानित कारण पिछले वर्ष के बचे चीनी भंडार और रिकार्ड उत्पादन की वजह से 2014-15 में कीमतों में आई हुई गिरावट है। लेकिन अब कम उत्पादन की सम्भावना तथा सरकार का 2015-16 में 32 लाख टन चीनी के निर्यात की अनिवार्यता से कीमतों में तेजी आती जा रही है।

Post Comment